हिंदी कहानियाँ

6/recent/ticker-posts

माइक्रोसॉफ्ट का इंटरनेट एक्सप्लोरर बंद होने वाला है - Internet Explorer Shutting down

माइक्रोसॉफ्ट का इंटरनेट एक्सप्लोरर कुछ समय पहले इंटरनेट का एकमात्र प्रमुख प्रवेश द्वार (Browser) था। लेकिन अब इस ब्राउज़र को कम्पनी बंद करने वाली है।

Internet Explorer Shutting down

Microsoft ने अधिकारिक बयान जारी करके कहा है कि वह अपने पुराने Internet Explorer Browser को अगले साल अगस्त तक बंद कर देगी।

अब इसकी जगह कंपनी का आधुनिक ब्राउजर Microsoft Edge को आगे बढ़ाया जाएगा। आइए जानते हैं कभी internet के सरताज रहे Microsoft के Browser "Internet Explorer" के इतिहास को -


इंटरनेट एक्सप्लोरर को प्रसिद्धि कैसे मिली थी?

इंटरनेट एक्सप्लोरर (IE) की कहानी वास्तव में बिग टेक द्वारा सामना की गई पहली वास्तविक एंटीट्रस्ट लड़ाई को कवर करती है। जब IE को 1995 में लॉन्च किया गया था, तो कंपनी ने तत्कालीन प्रमुख ब्राउजर नेटस्केप नेविगेटर बनाने के लिए उपयोग किए गए कोड का लाइसेंस लिया था।

इसका उपयोग IE बनाने के लिए किया और इसे विंडोज के साथ बंडल किया, जबकि नेटस्केप ने अपने Browser के लिए $49 मूल्य का लगाया हुआ था। यह प्राथमिक कारण है कि आज वेब ब्राउजर मुफ्त में उपलब्ध हैं।

इसने यूएस डिपार्टमेंट ऑफ जस्टिस को Microsoft में एक अविश्वास जांच (antitrust investigation) शुरू करने के लिए प्रेरित किया और न्यायाधीश ने अंततः Microsoft कंपनी को कई भागों में बाटने के लिए कहा, और कहा कि IE को मुफ्त में देना वास्तव में प्रतिस्पर्धी विरोधी व्यवहार था।


इसके बाद Microsoft के साथ क्या हुआ?

Microsoft ने इसके बाद कोर्ट में अपील की, कोर्ट ने कंपनी पर सख्त प्रतिबंध लगाए। इनमें से एक था कि Microsoft अब पीसी निर्माताओं और सॉफ्टवेयर डेवलपर्स के साथ विशेष व्यवहार में शामिल नहीं हो सकता है।

इसने कंपनी को अन्य डेवलपर्स के लिए एप्लिकेशन प्रोग्रामिंग इंटरफेस (एपीआई) के माध्यम से विंडोज स्रोत कोड खोलने के लिए मजबूर किया, इससे वे ऐसे सॉफ्टवेयर का निर्माण कर सकते थे जो विंडोज पर काम करें।

इससे अनिवार्य रूप से पीसी के पारिस्थितिकी तंत्र पर माइक्रोसॉफ्ट के नियंत्रण का एक बड़ा हिस्सा दुनिया भर के developers के पास चला गया, जो उस समय एकमात्र "स्मार्ट" पारिस्थितिकी तंत्र था और इसके बाद एक तरह से IE का पतन शुरू हो गया।


वर्ल्ड वाइड वेब पर IE ने अपना प्रभुत्व कैसे खो दिया?

एंटीट्रस्ट लड़ाई के बावजूद 2004 तक IE का पीसी ब्राउजर के 90% बाजार पर क़ब्ज़ा था। इस बीच, फ़ायरफ़ॉक्स शुरू हुआ फिर Google ने 2008 में क्रोम लॉन्च किया और इस तूफ़ान में Microsoft का IE टिक नही पाया। अगले 5 वर्षों में Google ने ब्राउज़र बाज़ार को अपने कब्जे में ले लिया और 2013 तक IE की हिस्सेदारी कम होकर 30% से भी नीचे चली गई थी। आज IE के पास बाज़ार 1% से भी कम हिस्सेदारी बची है। जुलाई 2020 तक Browser मार्केट में IE और Microsoft Edge की कुल हिस्सेदारी सिर्फ़ 9% ही थी।


क्यों वेब के इतिहास में IE महत्वपूर्ण है?

दुनिया में पर्सनल कम्प्यूटर आने के बाद netscape ने Internet के प्रवेश द्वार के रूप में सबसे पहले अपने ब्राउज़र को लॉंच किया था और काफी सफल हुआ था। इसके बाद Microsoft ने अपना इंटरनेट एक्सप्लोरर बनाया और यह कुछ ही समय के अंदर netscape Browser को Replace करके दुनिया का सरताज बन गया। 

जैसे आज Google को वेब के पर्याय के रूप में उपयोग किया जाने लगा है, उसी तरह IE 90 के दशक के अंत और 2000 के दशक के प्रारंभ में पर्याय बन गया था।

उस समय तक Concept ऐप्स की अवधारणा नहीं आई थी और इंटरनेट से आपको जो कुछ भी चाहिए वह केवल एक ब्राउज़र से ही प्राप्त किया जा सकता था। वह था Microsoft का Internet Explorer, हालाँकि स्मार्टफोन के प्रसार ने इन सब को बदल दिया।


इंटरनेट एक्सप्लोरर का अंत

30 नवंबर से Microsoft टीम वेब ब्राउज़र के नवीनतम संस्करण IE11 पर काम करना बंद कर देगी। 17 अगस्त 2021 को कंपनी की Microsoft 365 सेवाएँ, जैसे आउटलुक, वनड्राइव और बहुत कुछ को IE11 से जोड़ना बंद कर दिया जाएगा।

Microsoft ने कहा कि इसके बाद IE11 का उपयोग करके ऐप्स और सेवाओं तक पहुँच बंद हो जायेगी। Microsoft उपयोगकर्ताओं को अपने नए Browser Edge में स्थानांतरित होने के लिए कह रहा है, इसमें Integrated IE मोड भी दिया गया है।

Post a comment

0 Comments