हिंदी कहानियाँ

6/recent/ticker-posts

अपने दुश्मनों के साथ भी अच्छा व्यवहार करें - दो लड़कों की हिंदी कहानी - Moral Stories in Hindi

Moral Stories in Hindi - बहुत समय पहले की बात है, विलियम नाम का एक छोटा लड़का रहता था। वह एक अच्छा लड़का था। विलियम पढ़ाई में बहुत अच्छा था, अपने माता-पिता का आज्ञाकारी, अपनी कक्षा के कई अन्य लड़कों की तुलना में अधिक बुद्धिमान और सभी के प्रति दयालु था।

Moral Stories in Hindi, Be nice to your enemies as well, Hindi Kahani

Moral Stories in Hindi - Be nice to your enemies as well 

विलियम के साथ रहने वाले लड़के भी उसे बहुत पसंद करते थे। लेकिन इससे कई अन्य लड़कों को ईर्ष्या होने लगी, जो विलियम की तरह बनना चाहते थे लेकिन ख़ुद में सुधार नही करते थे।

जेम्स नाम का एक और लड़का था, जो विलियम के साथ उसकी ही कक्षा में पढ़ता था। लेकिन वह विलियम के विपरीत स्वभाव का था, वह पढ़ाई में भी अच्छा नहीं था और हमेशा स्कूल के समय खेलना पसंद करता था।

जेम्स अपने माता-पिता के साथ भी दुर्व्यवहार किया करता था, अपने सहपाठियों को परेशान करता था और यहां तक ​​कि उसने विलियम के साथ भी दुर्व्यवहार करता था।

जेम्स हमेशा विलियम को नीचा दिखाना चाहता था और एक बार तो उसने विलियम कि क्लास के दूसरे बच्चों के सामने गिरा दिया था। लेकिन इससे जेम्स को कोई फर्क नहीं पड़ता था कि उसने क्या किया है।

विलियम के ग्रेड हमेशा बेहतर होते थे। चाहे पढ़ाई में हो या खेल में विलियम को हमेशा अपने सहपाठियों और हर जगह से प्रशंसा ही मिलती थी। विलियम को जानने वाला हर इंसान उसकी तारीफ़ करता था।

विलियम के 12वें जन्मदिन पर, उसे अपने मम्मी-पापा से गिफ्ट के रूप में एक बढ़िया पेन मिला। विलियम उस पेन को स्कूल लाया ताकि वह इसका उपयोग अपने नोट्स बनाने के लिए कर सके, जो नोट्स टीचर कक्षा में तैयार करवाते थे।

यह एक बहुत ही सुंदर कलम थी और यह बहुत तेजी से लिखने में मददगार थी। 

जब जेम्स ने देखा, तो उसे विलियम से बहुत जलन हुई। फिर जेम्स ने विलियम से पूछा :- अरे, तुमको यह पेन कहाँ से मिला? क्या तुमने इसे खरीदा है?

विलियम ने जेम्स को जवाब दिया - मेरे मम्मी-पापा ने इसे जन्मदिन के गिफ्ट के रूप में ये पेन मुझे दिया था।

जेम्स गुस्से और ईर्ष्या से भरा हुआ था। वह इतना बुरा लड़का था की शायद ही कभी अपने माता-पिता से मिला हो। उसने विलियम की कलम चुराने का फैसला किया।

आप kahani.hindualert.in में नैतिक कहानी (Moral Stories in Hindi) "अपने दुश्मनों के साथ भी अच्छा व्यवहार करें - दो लड़कों की हिंदी कहानी" पढ़ रहे है। 

अवकाश के दौरान, जब हर कोई कक्षा से बाहर चला गया था, जेम्स ने विलियम का बैग खोला और उसकी पेन चुरा ली। फिर उस पेन को अपने बैग के अंदर छिपा दिया और इसके बाद अपना टिफिन लेकर क्लास से बाहर निकल गया।

जब विलियम क्लास में वापस आया और उसने अपना बैग खोल कर देखा तो उसे अपनी पेन नहीं मिली, तो उसने अपने क्लास टीचर को इसके बारे में सूचित किया।

चोरी हुई पेन को खोजने के लिए क्लास टीचर ने क्लास के मॉनिटर को कक्षा के अंदर प्रत्येक बच्चों के बैग देखने का आदेश दिया। जब क्लास मॉनिटर ने सबका बैग चेक किया तो विलियम की पेन जेम्स के बैग में मिल गई।

जेम्स के बैग से पेन मिलने के बाद टीचर जेम्स पर ग़ुस्सा हुआ और उससे पूँछा - जेम्स तुम्हें इस पेन चोरी के बारे में कुछ कहना है?

जेम्स रोने लगा और कुछ नही बोला।

जब विलियम ने जेम्स को रोते देखा, तो उसे जेम्स पर दया आ गई। वह जिस तरह का लड़का था, वह अपने सहपाठी के खिलाफ कोई गलत सोच नही रखता था। उसने अपने शिक्षक से अनुरोध किया कि वह जेम्स के खिलाफ कोई कार्रवाई न करे, अब तो उसकी चोरी हुई कलम मिल गई है।

इससे जेम्स की आँखें खुल गईं। वह अब जान चुका था कि विलियम कितना अच्छा लड़का है। उसने अपने शिक्षक और विलियम से क्षमा मांगी। उस दिन से, वह विलियम का दोस्त बन गया और धीरे-धीरे खुद को बदलकर विलियम की तरह अच्छा लड़का बन गया।

इसके बाद हर कोई जेम्स को भी प्यार करने लगा और इससे विलियम को अपने नए दोस्त पर गर्व था।

Moral of the story in Hindi : Be nice to your enemies as well Moral of the story in Hindi

जेम्स ने विलियम के साथ गलत व्यवहार किया था इसके बाद भी विलियम ने जेम्स को सिर्फ़ प्यार दिया।

इस हिंदी कहानी (Moral Stories in Hindi) से हमें सीख मिलती है की हम सबको अपने दुश्मनों के साथ भी गलत व्यवहार नही करना चाहिए। अगर हम उनका सम्मान करेंगे तो कुछ समय में वो भी बदल जाएँगे। हमारा अच्छा व्यवहार हमारे दुश्मनों में भी बदलाव ला सकता है।

नैतिक कहानियाँ (Moral Stories in Hindi) का सारांश : किसी को नुकसान मत पहुँचाओ भले ही वह आपको परेशान करे। सभी के साथ अच्छा व्यवहार करें।

अगर आपको यह Hindi Kahani पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया जैसे की फेसबुक, Twiiter, Whatsapp इत्यादि में शेयर करना ना भूलें। साथ ही हमारे फेसबुक पेज को लाइक और follow करें।

ऐसी ही नई Moral Stories in Hindi (नैतिक कहानियाँ) पढ़ने के लिए kahani.hindualert.in के साथ जुड़ें रहें।

Post a comment

0 Comments