हिंदी कहानियाँ

6/recent/ticker-posts

दूसरों को फ़ॉलो करने की बजाए अपनी पहचान बनाएँ - Motivational Story in Hindi

Motivational Story in Hindi - Create your own identity Hindi Motivational Story

स्वागत है दोस्तो, आज आप पढ़ेंगे "दूसरों को फ़ॉलो करने की बजाए अपनी पहचान बनाएँ, एक Motivational Story in Hindi"। यह हिंदी कहानी प्रेरणादायक है। आइए शुरू करते हैं

Motivational Story in Hindi, Create your own identity Hindi Motivational Story

आज हम आपको एक प्रसिद्ध पत्रकार और लेखक की Hindi motivational story बताने वाले हैं। उनका नाम पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ है, यह एक राजनयिक भी हैं। पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ बहुत ही अच्छे स्वभाव के हैं। उनका व्यक्तित्व काफी आकर्षक और हंसमुख है।

पत्रकार (न्यूज रिपोर्टर) रहते हुए पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ भारत के साथ पूरी दुनिया में प्रसिद्ध हुए हैं। पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ के बारे में कहा जाता है की उन्होंने ऐसी जगह जाकर भी अपनी पत्रकारिता की सिध्द किया है, जहाँ आज के दूसरे न्यूज रिपोर्टर का पहुँचना भी मुश्किल है।

न्यूज रिपोर्टर और राजनेता पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ के हाजिर जवाब और  हंसमुख व्यक्तित्व का कोई शानी नही हो सकता है।

आज हम आकपको ऐसे महान हसमुख न्यूज रिपोर्टर और राजनेता पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ के एक Motivational Story in Hindi आपको बताने वाले हैं।

कहा जाता है कि कुछ समय पहले पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ किसी जनसभा को संबोधित कर रहे थे, उनकी सभी इस जनसभा में काफ़ी भीड़ थी, ऐसा लगता था मानो लोगों का जनसैलाब उमड़ पड़ा हो, बहुत दूर दूर से लोग उनकी बातों को सुनने के लिए आए थे।

Motivational Story in Hindi -  kahani.hindualert.in

पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ जब अपना संबोधन खत्म करके निकल रहे थे, उसी समय उनके उनका ऑटोग्राफ लेने के लिए भीड़ आ गई। वो सभी से बात करते हुए, उनका नाम पूँछते और ऑटोग्राफ देते जाते।

ऑटोग्राफ देते समय एक युवा भीड़ से निकल कर उनके पास आया और उनसे पूँछा - सर, मैं आपका बहुत बड़ा फ़ैन और श्रोता हूँ। साथ ही मुझे हिंदी साहित्य से भी प्रेम है, इसी वजह से मुझे आपकी लेखनी बहुत अच्छी लगती है। मैं आपको सबसे अच्छा लेखक भी मानता हूँ। आपके द्वारा लिखी गई हर किताब मैंने पढ़ी है। मैं आपके जैसा बनना चाहता हूँ।

पढ़ें Hindi Kahani : एयर इंडिया क्रैश: कैप्टन साठे के चचेरे भाई ने उनकी बहादुरी के बारे में अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखा - motivational story in hindi

क्या आप मुझे कुछ सलाह देंगे ताकि मैं अपनी अलग पहचान बना सकूँ और आपकी तरह लोगों का प्रेम पा सकूँ। यह सब बोलते हुए उस युवा व्यक्ति ने अपना एक पेपर उनका ऑटोग्राफ लेने के लिए उन्हें दिया।

Hindi Motivational Story - प्रेरणादायक कहानी

पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ ने उस युवा को उस समय तो कुछ नही कहा, उन्होंने उसको ऑटोग्राफ दिया और उसका पेपर वापस कर दिया।

लेकिन जब युवा ने उस पेपर को देखा तब उसे पता चला की उन्होंने ऑटोग्राफ के साथ उसको बहुत अच्छी सलाह दिए थे, उन्होंने युवा के दिए हुए पेपर में लिखा था कि - 

आप अपने हर छण का उपयोग अपनी पहचान बनाने के लिए करें, किसी और का ऑटोग्राफ लेने से आप अपनी पहचान नही बना पाएँगे, जितना समय आप दूसरे के ऑटोग्राफ लेने में लगाते हैं, उसका उपयोग अपनी पहचान बनाने में करिए।

इस Hindi Moral Story  को भी पढ़ें : किसान के तीन बेटे और छड़ी का एक बंडल हिंदी कहानी / एकता में ही बल है - Moral Stories in Hindi

वह युवा उनकी इस बात को पढ़ कर काफ़ी ख़ुश हुआ और पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ को थैंक्यू बोला।

युवा ने प्रण किया की अब वो उनकी कही बातों को जिंदगी भर याद रखेगा और अपनी पहचान बना कर दिखाएगा। इसके बाद पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ ने युवा को शुभकामनाएं देते हुए, वहाँ से चले गए।

Moral of the story : Hindi Motivational Story

हम इस Motivational Story in Hindi से सीखते हैं कि हमें दूसरों का अनुसरण करने की बजाये अपनी पहचान और अपना व्यक्तित्व बनाना चाहिए। अगर आप किसी का अनुसरण करते हैं तो आपको हमेशा अपने रोल मॉडल के नीचे रहना पड़ेगा। जीवन में सबसे बड़ी चीज आपके लिए सम्मान और विशिष्टता होनी चाहिए। इसी के लिए दुनिया आपको याद रखेगी। इसलिए किसी का अनुसरण करना बंद करके आपको अपना ख़ुद का अनुसरण करना चाहिए और अपने सपनों को पूरा करते हुए अपनी पहचान बनानी चाहिए।

इस Moral Stories in Hindi को भी पढ़ें : एक राजा की पेंटिंग की हिंदी कहानी - Moral Stories in Hindi

दोस्तो, यह Hindi Motivational Story आपको कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ। अगर आपको यह Hindi Kahani अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें। साथ ही हमारे फेसबुक पेज को लाइक करिए।

ऐसी ही Hindi kahaniya और Motivational Story in Hindi पढ़ने के लिए kahani.hindualert.in से जुड़ें रहे, इसके लिए आप हमारा फ्री ईमेल सब्स्क्रिप्शन भी ले सकते हैं, जिससे नई कहानियाँ आपके ईमेल पर मिल जाएँगी।

Motivational Story in Hindi, Inspirational Story in Hindi, Hindi motivational story, Prernadayak kahaniya, प्रेरक कहानियाँ, Kahani, hindi story, Hindu alert, Hindu, HinduAlert, Short Story in Hindi

Post a comment

0 Comments