मूर्ख बंदर और गौरैया की कहानी – Moral Stories in Hindi

0
35
murkh bandar - moral stories in hindi
murkh bandar - moral stories in hindi

Moral Stories in Hindi : सर्दी के मौसम में एक रात बहुत ज़्यादा ठंड पड रही थी। बंदरों का एक झुंड था जो इस कड़ाके की सर्द रात में  पेड़ की शाखाओं से चिपके हुए थे। बंदरों के झुंड में से एक बंदर ने कहा, “काश हमें आग मिल पाती, जो हमें गर्म रखने में मदद करती।”

Moral Stories in Hindi

अचानक बंदर के समूह को जुगनू का झुंड दिखाई दिया। इन बंदरों में से एक ने सोचा कि यह आग है। उसने एक जुगनू पकड़ लिया। और उस जुगनू को उसने एक सूखे पत्ते के नीचे रख दिया और उसे हवा देने लगा ताकि आग जल जाए। उस बंदर को ऐसा करते देख कुछ और बंदर उसका साथ देने के लिए आ गए।

murkh bandar - moral stories in hindi
murkh bandar – moral stories in hindi

इसी बीच, एक गौरैया अपने घोंसले के पास उड़ती हुई आई, गौरैया अपना घोंसला उसी पेड़ पर बनाई थी, जिस पर बंदर बैठे थे। उसने देखा कि बंदर जुगनू से आग जला रहे हैं। ऐसा करते देख गौरैया हँस पड़ी।

उसने कहा, “अरे मूर्ख बंदरो यह जुगनू हैं, असली आग नहीं, इससे आग नही जलेगी। और उस गौरैया ने बंदरों को कहा कि – “मुझे लगता है कि आप सभी को ठंड से बचने के लिए किसी गुफा में जाना चाहिए।” HinduAlert में आप hindi kahani पढ़ रहे हैं।

हालाँकि बंदरों ने गौरैया की बात नहीं मानी और वे जुगनू से आग जलाने की कोशिश करते रहे। कुछ समय बाद, बंदर बहुत थक गए। अब उन्हें एहसास हुआ कि गौरैया ने जो कहा था वह सही था।

इस कहानी को भी पढ़ें :   Moral Stories in Hindi : मेरियोस के राजा को भगवान ने सिखाया सबक, लालच बहुत बुरी आदत है - मेरियोस का लालची राजा जोर्डिस

कुछ देर बाद बंदरों ने उस जुगनू को छोड़ दिया फिर सभी बंदर दुखी होकर फिर से पेड़ की शाखाओं में जाकर चिपक जाते हैं। लेकिन जैसे जैसे रात का समय आगे बढ़ता है तो कड़ाके की ठंड और ज़्यादा बढ़ती जाती है।

Moral Stories In Hindi

ऐसे ही बंदरों का यह समूह इस ठंड में पूरी रात गुजार लेता है। जब सुबह होती है तो गौरैया अपने घोसले से निकल कर देखती है की बंदर ठंड की वजह से ठिठुर रहे हैं, तो उसे दया आ जाती है और गौरैया बंदरों को फिर से कहती है की आप सबको किसी गुफा में चले जाना चाहिए, नही तो इस ठंड को सहन नही कर पाएँगे।

फिर बंदर उसकी बात मान लेते हैं और सभी मिलकर गुफा की तलाश करते हैं। गौरैया उड़ कर हर जगह गुफा देखती है और फिर बंदरों को एक अच्छी गुफा के बारे में बता देती है। बंदर का समूह उसकी बताई गुफा में चले जाते हैं। और जाते जाते उस गौरैया की मदद के लिए उसे शुक्रिया कहते हैं।

Moral of the Story : दृढ़ता एक अच्छे छात्र का गुण है, जिससे वह हमेशा कुछ नया सीख सकता है। इस कहानी में बंदर लगातार मेहनत कर रहे हैं। लेकिन उन्हें सफलता नही मिल रही है।

इस moral stories in hindi से हमें सीख मिलती है की कुछ पनें के लिए हमें कड़ी मेहनत करनी चाहिए, लेकिन अपने से बड़ों की बात भी सुननी चाहिए, क्योंकि वो हमसे बेहतर जानते हैं।

पागल बंदरों की यह हिंदी कहानी (Moral Stories In Hindi) कैसी लगी। कमेंट करके जरूर बताएँ। अगर आपको यह Hindi Kahani पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया जैसे की फेसबुक, WhatsApp में शेयर करना ना भूलें।

इस कहानी को भी पढ़ें :   Moral Stories in Hindi : चरवाहे लड़के को मिला झूठ बोलने का परिणाम, कभी झूठ नही बोलना चाहिए Moral Stories in Hindi पढ़िए