Moral Stories in Hindi में स्वागत है दोस्तों, आज HinduAlert.in में आप एक लालची चूहे की हिंदी कहानी पढ़ेंगे। इस कहानी में आपको सीखने को मिलेगा की लालच कितनी ख़राब होती है।

Hindi Story : एक बार एक लालची चूहे ने मकई से भरी टोकरी देखी। वह लालची चूहा चाहता था कि वह सारी मकई खा जाए, इसलिए उसने टोकरी में एक छोटा सा छेद बनाया। वह चूहा इस छेद के द्वारा मकई की टोकरी में चला गया।

जब तक मकई की टोकरी भरी थी, तब तक उसने बहुत सारा मक्का खाया और बहुत खुश हुआ। अब चूहा मकई की टोकरी से बाहर आना चाहता था। उसने उसी छोटे छेद के माध्यम से बाहर आने की कोशिश की लेकिन वह ऐसा करने में विफल रहा।

Moral Stories in Hindi

उनका पेट भरा हुआ था जिससे वह मोटा हो गया था इसलिए उस छोटे से छेंद से वह बाहर नही निकल पाया। उसने कई बार कोशिश की, लेकिन इसका कोई फायदा नहीं हुआ। वह चूहा उसी टोकरी में फँसा रह गया।

चूहा रोने लगा। तभी एक खरगोश पास से गुजर रहा था। उसने चूहे का रोना सुना और पूछा – मेरे दोस्त, तुम रो क्यों रहे हो?

Lalchi Chuha - moral stories in hindi
Lalchi Chuha – moral stories in hindi

लालची चूहे ने खरगोश को बताया कि कैसे वह उस टोकरी में फँस गया है। चूहे ने कहा कि – मैंने मकई खाने के लिए इस टोकरी में एक छोटा सा छेद बनाया और अंदर चला आया। लेकिन अब मैं उस छेद से नहीं निकल पा रहा हूं।

नैतिक कहानियां // Moral Stories in Hindi

खरगोश ने उसे बताया कि – तुम इस टोकरी से नही निकल पा रहे, इसका कारण है कि तुमने बहुत मकई खा ली है जिससे तुम्हारा पेट फूल गया है और तुम मोटे हो गए हो। अब तब तक इंतेज़ार करो, जब तक तुम्हारा पेट खाली होकर सिकुड़ नहीं जाता।

इस कहानी को भी पढ़ें :   चिंतित पति की हिंदी कहानी - Moral Stories in Hindi

खरगोश हँसा और चला गया। चूहा उसी मकई की टोकरी में सो गया। अगली सुबह तक मकई पच गई जिसे चूहे का पेट सिकुड़ गया था। लेकिन अब लालची चूहा और मकई खाना चाहता था। वह टोकरी से बाहर निकलने के बारे में सब भूल गया। और उसी टोकरी में रह कर और मकई खा ली। इससे उसका पेट फिर से बड़ा हो गया।

Moral Stories in Hindi

जब चूहे का पेट भर गया तो उसे याद आया की यहाँ से बाहर निकलना जरूरी है, नही तो अगर टोकरी का मालिक आ गया तो उसको मार देगा।

अब जब चूहा उस छेंद से निकलने की कोशिश की तो वह फिर से नही निकल पाया। इस बार उसने सोचा की अब कल मैं बाहर निकलूँगा। और फिर चूहा उसी टोकरी में सो गया।

कुछ समय बाद वहाँ एक बिल्ली आई और वह चूहे की महक सूँघ कर टोकरी के पास आ गई। कुछ देर खोजने के बाद बिल्ली को पता चल गया की चूहा टोकरी में है, तो उसने टोकरी का ढक्कन उठाया और चूहा को सोता देखा। बिल्ली ने उस लालची चूहे को पकड़ कर खा लिया।

Moral of Story in Hindi – इस लालची चूहा hindi kahani से हमें सीख मिलती है कि लालची होना बहुत बुरा होता है। यह जरूरी है की हम अपनी जरुरत से ज़्यादा की उम्मीद ना करें और ना ही ज़्यादा लालच करें।

हमारे पास जितना है, उतने में ही ख़ुश रहें। हमें इस लालची चूहे की तरह नही बनना चाहिए जिसे लालच के चक्कर में अपनी जान से हाथ धोना पड़ा।

हिंदी साहित्य में पढ़ाई करने के साथ ही मुझे हिंदी कहानियाँ लिखने का शौक़ था. मेरे इस शौक़ को मंच HinduAlert.in में मिला, जहाँ पर मैं अब अपनी लिखी हिंदी कहानियों को पब्लिश करती हूँ, ताकि दूसरे लोग जिनको कहानियाँ (Hindi Stories) पसंद हैं, वो भी मेरी लिखी रचनाओं को पढ़ सकें.