Moral Stories

एक राजा की पेंटिंग की हिंदी कहानी – Moral Stories in Hindi

दोस्तों आज हम आपको एक राजा की पेंटिंग की हिंदी कहानी लेकर आए हैं। आपको इस Moral Story in Hindi में काफी कुछ सीखने को मिलेगा।

आप इस कहानी (kahani) से सीखेंगे की कैसे सकारात्मक विचार हमें किसी भी समस्या से छुटकारा दिला सकते हैं। आईए शुरू करते हैं राजा की पेंटिंग की Best Inspirational Story in Hindi

राजा की पेंटिंग की नैतिक कहानी – Moral Stories in Hindi

Moral Stories in Hindi : एक बार की बात है, एक राज्य था jiska वहां के राजा के पास केवल एक पैर और एक आंख थी, लेकिन वह बहुत बुद्धिमान और दयालु था। उनके राज्य में हर कोई अपने राजा की वजह से खुश और स्वस्थ जीवन जीता था।

raja ki painting - moral stories in hindi
raja ki painting – moral stories in hindi

एक दिन राजा महल के दालान से गुजर रहा था और वहाँ उसने अपने पूर्वजों की पेंटिंग देखी। उसने सोचा कि एक दिन उसके बच्चे इसी दालान से निकलेंगे और सभी पूर्वजों को इन पेंटिंगों के माध्यम से याद करेंगे।

Moral Stories in Hindi

काफी समय पहले एक राज्य था, जिसका राजा शारीरिक रूप से विकलांग था। उस राज्य के राजा के एक आँख और एक पैर नही था। अपनी विकलांगता के बावजूद राजा काफी होशियार और दयालु था।

उस राज्य का हर नागरिक उस राजा की बुद्धिमानी और दयालुता की वजह से ख़ुश था। एक दिन राजा अपने महल में घूमता हुआ एक हाल में गया, जहाँ उसके सभी पूर्वजों की पेंटिंग लगी हुई थी।

उसने देखा कि वहाँ उसके सभी पूर्वजों की पेंटिंग लगी हुई हैं, लेकिन अभी तक उसकी पेंटिंग उसमें नही लगाई गई थी। उसका कारण था की राजा शारीरिक रूप से विकलांग था, इसलिए उसने अभी तक अपनी पेंटिंग नही बनवाई थी।

राजा सोचता था की शारीरिक विकलांगता की वजह से उसकी पेंटिंग ख़राब दिखेगी। पूर्वजों की पेंटिंग देख कर राजा सोचने लगा कि जब उसके बच्चे यहाँ आएँगे तो वो भी अपने पूर्वजों को इन पेंटिंग की वजह से याद करेंगे।

लेकिन उसके मन में आया की अभी तक मेरी पेंटिंग नही लगी है तो बच्चे मुझे याद नही करेंगे और कुछ सालों बाद मुझे भुला दिया जाएगा।

इसलिए उस राजा ने अपनी पेंटिंग बनवाने के बारे में सोचने लगा। तभी उसके मन में विचार आया की वह अपनी एक ख़ूबसूरत पेंटिंग बनवा कर यहाँ लगवा दे।

Moral Stories in Hindi

यह सोच कर वह राजा अपने राज्य और अन्य राज्यों से कई प्रसिद्ध चित्रकारों को अपने दरबार में बुलाया। राजा ने दरबार में बताया की वह चाहता है की इस महल में उसकी एक खूबसूरत पेंटिंग लगाई जाए, इसलिए आपमें से जो भी मेरी एक बेहतरीन पेंटिंग बना सकता है वह आगे आए।

जो मेरी सबसे बेहतरीन पेंटिंग बनाएगा, उस पेंटर को पुरस्कार दिया जाएगा। सभी चित्रकार यह सोचने लगे कि राजा के केवल एक पैर और एक आंख है। उनकी तस्वीर को सुंदर कैसे बनाया जा सकता है?

यह संभव नहीं है और यदि पेंटिंग खूबसूरत नहीं दिखी तो राजा क्रोधित हो जाएगा और उन्हें दंड देगा। इसलिए एक एक करके सभी ने बहाना बनाना शुरू कर दिया और राजा की पेंटिंग बनाने के लिए विनम्रता से मना कर दिया। और उसके दरबार से चले गए।

तभी एक पेंटर ने राजा से कहा कि मैं आपकी एक बहुत खूबसूरत पेंटिंग बनाऊंगा, जो आपको पसंद आएगी। उस चित्रकार की बातों से अन्य चित्रकारों को भी उत्सुकता हुई साथ ही राजा अपनी ख़ूबसूरत पेंटिंग की बात सुन कर ख़ुश हो गया।

राजा ने उस पेंटर को अपनी पेंटिंग बनाने की अनुमति दे दी और चित्रकार ने राजा की पेंटिंग बनाना शुरू कर दिया। फिर उस चित्रकार ने ड्राइंग शीट को पेंट से भर दिया। काफी समय तक वह चित्रकार राजा की पेंटिंग बनाता रहा और अंत में उसने राजा से कहा कि महाराज! आपकी खूबसूरत पेंटिंग बन कर तैयार है।

आप “kahani.hindualert.in” में एक राजा की पेंटिंग की Moral Stories in Hindi पढ़ रहे हैं।

राजा के साथ उसके सभी दरबारियों और अन्य चित्रकारों में उत्सुकता के साथ घबराहट भी थी। वो सब ये जानने के उत्सुक थे कि चित्रकार राजा की पेंटिंग को सुंदर कैसे बना सकता है क्योंकि राजा शारीरिक रूप से अक्षम/विकलांग है?

अगर राजा को पेंटिंग पसंद नहीं आती है और राजा को पेंटिंग देख कर गुस्सा आता है, तो क्या होगा? लेकिन जब चित्रकार ने राजा की पेंटिंग सबको दिखाई तो, तो राजा सहित उसके दरबार में मौजूद सभी लोग और दूसरे पेंटर दंग रह गए।

चित्रकार ने एक ऐसी पेंटिंग बनाई थी, जिसमें राजा घोड़े पर सवार था (जिससे उसका एक पैर ही दिखाई दे रहा था) और वह राजा अपना धनुष लिए, अपनी एक आँख बंद करके तीर से निशाना लगा रहा था।

राजा उस पेंटिंग को देखकर बहुत ख़ुश हुआ। राजा सोचने लगा की इस पेंटर ने मेरी शारीरिक कमियों को छिपा कर बहुत ख़ूबसूरत पेंटिंग बनाई है। राजा उस चित्रकार द्वारा बनाई गई पेंटिंग से ख़ुश होकर उसको बहुत बड़ा इनाम दिया।

Moral of the story in Hindi: “एक राजा की पेंटिंग” इस हिंदी कहानी (Hindi Kahani) से हमें सीख मिलती है की हम सबको हमेशा अपने विचार सकारात्मक रखने चाहिए, हमें किसी के बारे में भी नकारात्मक बातें नही सोचनी चाहिए।

हमें दूसरों की ख़ामियों को भूल कर उनकी अच्छाइयों पर ध्यान देना चाहिए। ऐसा करके हम नकारात्मक माहौल में भी सकारात्मक बातें सोच सकते हैं। दूसरों के बारे में अपने विचार सकारात्मक रख कर हम किसी भी नकारात्मक स्थिति में अपनी क़ाबिलियत के दम पर किसी भी समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

दोस्तों, यह Moral Stories in Hindi (नैतिक कहानी) आपको कैसी लगी, कमेंट करके जरूर बताएँ, साथ ही हमारे फेसबुक पेज को लाइक करना ना भूलें। अगर आपको यह Hindi Kahani अच्छी लगी हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें।

ऐसी ही Hindi kahaniya पढ़ने के लिए “kahani.hindualert.in” से जुड़ें रहें।