Wednesday, January 20हिंदी कहानियों का विशाल संग्रह

Tag: Hindi Stories

कहानी (Kahani) : चाँद पर खरगोश का निशान, दानवीर खरगोश हिंदी कहानी एक जातक कथा (Chaand Par Khargosh ka nishan, Daanveer Khargosh Hindi Kahani – Jataka Katha)

कहानी (Kahani) : चाँद पर खरगोश का निशान, दानवीर खरगोश हिंदी कहानी एक जातक कथा (Chaand Par Khargosh ka nishan, Daanveer Khargosh Hindi Kahani – Jataka Katha)

Kahani
Daanveer Khargosh ki KahaniKahani : दोस्तों, आज हम आपके लिए दानवीर खरगोश की हिंदी कहानी (Hindi Kahani) एक जातक (Jataka Katha) लेकर आए हैं। यह कहानी (Kahani) आपको ज़रूर पसंद आएगी। आइए आपको कहानी (Kahani) बताते हैं...। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); Kahani : Daanveer Khargosh Hindi Kahani, Jataka Kathaएक समय की बात है, एक नदी के किनारे गाना जंगल था। उस जंगल में एक खरगोश और उसके तीन दोस्त (हिरन, लोमड़ी और मगरमच्छ) रहते थे। सभी में साथ में खेलते-कूदते और पढ़ते थे। चारों दोस्त ख़ुद को दानवीर के रूप में देखना चाहते थे। इसके लिए चारों दोस्तों ने जंगल महोत्सव के दिन दान देने का फैसला किया। जंगल महोत्सव हर साल उस जंगल में बड़े धूम धाम से मनाया जाता था और उस दिन किसी एक को जंगल के नियम के अनुसार जो सबसे अच्छा और बड़ा दान करता था उसे दान-वीर घोषित किया जाता था।Kahani :...
राधा और उसकी सौतेली माँ की कहानी – Kahani, Hindi Stories, bacchon ki kahaniyan

राधा और उसकी सौतेली माँ की कहानी – Kahani, Hindi Stories, bacchon ki kahaniyan

Horror Story in Hindi, Jadui Kahani
kahani - Radha aur uski Sauteli Maa ki bacchon ki kahaniyanएक गाँव में एक परिवार में राधा नाम की लड़की रहती थी। राधा के पैदा होती ही उसकी मां का देहांत हो गया था। घर के सभी लोग राधा को उसकी मां के मरने का कारण मानते थे और उससे बहुत बुरा व्यवहार करते थे। राधा जब थोड़ी ही बड़ी हुई तो उसे घर का सारा काम करवाया जाने लगा और उसे स्कूल भी नहीं जाने दिया जाता था और जब राधा के पिता ने दूसरी शादी कर ली तो राधा के दुख और भी बढ़ गए थे। kahani Radha aur uski Sauteli Maa ki bacchon ki kahaniyan (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); राधा की सौतेली बहन और सौतेला भाई स्कूल भी जाते थे उन्हें बहुत से खिलौने भी दिए जाते थे और सभी लोग उनसे बहुत प्यार करते थे, राधा बहुत दुखी रहती थी। राधा ने अपने पापा से कहा पापा मैं भी पढ़ना चाहती हूं। तो उसके पापा ने कहा - तू स्कूल जाएगी तो ...
मूर्ख मित्र की कहानी : Kahani, Panchtantra Ki kahani, पंचतंत्र, Moorkh Bandar Ki Kahani

मूर्ख मित्र की कहानी : Kahani, Panchtantra Ki kahani, पंचतंत्र, Moorkh Bandar Ki Kahani

Panchtantra ki Kahaniyan
Kahani : एक समय की बात है, एक राज्य में राजा के राजमहल में एक टोनी नाम का बन्दर सेवक के रुप में रह कर काम करता था। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); टोनी बंदर उस राजा का बहुत ही विश्वसनीय कर्मचारी था और उस राजा का अंधभक्त भी था। उस राज्य में वह बंदर कहीं भी आ जा सकता था।एक रात वह राजा गहरी नीद में सो रहा था, और टोनी बंदर उस राजा को पंखा से हवा दे रहा था। टोनी बंदर देखता है की एक मक्खी बार बार राजा के ऊपर बैठ रही है, और पंखा से हवा करने पर भी वह नही भाग रही थी। जितनी बार वह मक्खी को भगाता वह फिर से वापस आकर राजा के ऊपर बैठ जाती थी। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); इस कहानी को भी पढ़ें : अपने दुश्मनों के साथ भी अच्छा व्यवहार करें - दो लड़कों की हिंदी कहानी - Moral Stories in HindiKahani, Moorkh Bandar Ki Panchtantra Ki Kahaniआप ...
Kahani : मिलिए कुमारी शिबूलाल से, जो भारत में हजारों वंचित बच्चों की मदद कर रही हैं उनके सपनों को साकार करती हैं

Kahani : मिलिए कुमारी शिबूलाल से, जो भारत में हजारों वंचित बच्चों की मदद कर रही हैं उनके सपनों को साकार करती हैं

Kahani
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); Kahani : मनोज कुमार केवी एक एमबीबीएस स्नातक हैं और Covid-19 के अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं में से एक हैं, जो कर्नाटक के गडग (Gadag) जिला अस्पताल में डॉक्टर के रूप में कार्यरत हैं। उनकी मां ने उनकी परवरिश की, जिन्होंने एक दुर्घटना में अपने पिता को खोने के बाद एक कृषि मजदूर के रूप में काम किया था।Kahani - Kumari Shibulaal ki, Hindi Storiesएक युवा लड़का होने के बाद से डॉक्टर बनने का उनका दृढ़ निश्चय था। 14 साल की उम्र में, मनोज एक घातक बीमारी से बच गया जिसने उसके संकल्प को आगे बढ़ाया। हालाँकि, शिबुलाल परिवार के परोपकारी पहल विद्यादान छात्रवृत्ति के बिना उसके लिए आगे पढ़ना मुश्किल होता।शिबुलाल परिवार की परोपकारी विद्यादान छात्रवृत्ति योजना में हर साल हज़ारों आवेदन आते हैं, जिनमें से 1,000 का चयन किया जाता है। मनोज कुमार केवी इन्ह...
एग्रीटेक स्टार्टअप लोगों को लंबी अवधि के धन लाभ के लिए खेतों का स्वामित्व और प्रबंधन करने में मदद करता है – Kahani, Hindi Stories Hosachiguru Agritech Startup

एग्रीटेक स्टार्टअप लोगों को लंबी अवधि के धन लाभ के लिए खेतों का स्वामित्व और प्रबंधन करने में मदद करता है – Kahani, Hindi Stories Hosachiguru Agritech Startup

Kahani
Kahani, Hindi Stories - Hosachiguru Agritech StartupKahani : Hosachiguru की स्थापना 2015 में तीन इंजीनियरों ने की थी जिन्होंने बेंगलुरु के बाहरी इलाके में खेती करने के लिए अपनी उच्च-पेमेंट वाली आईटी नौकरियों को छोड़ दिया था। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); कोई नया स्टार्टअप खोलना अपने आप में एक चुनौती के साथ ख़ुशी का पल होता है, लेकिन Hosachiguru के लिए यह और ज़रूरी हो जाता है क्योंकि यह स्टार्टअप ना सिर्फ़ ख़ुद को आगे बढा रहा है, बल्कि इस देश के किसानों की आय में भी सुधार करने का काम कर रहा है।Kahani, Hindi StoriesHosachiguru के सह-संस्थापक और निदेशक श्रीराम चितलूर (Sriram Chitlur) ने kahani.hindualert.in को बताया कि -एक खेत का मालिक होना एक भावना है। लोग इस बारे में बात करते हैं कि उनके दादा-दादी के पास कितने और कैसे खेत थे, जिनमे वे छुट्टियों के दौरान...
मोनिका और धीरज द्वारा स्थापित Zealth.ai कोरोना मरीजों की रियल टाइम रिमोट मॉनिटरिंग का वन स्टॉप प्लेटफ़ॉर्म – Hindi Stories

मोनिका और धीरज द्वारा स्थापित Zealth.ai कोरोना मरीजों की रियल टाइम रिमोट मॉनिटरिंग का वन स्टॉप प्लेटफ़ॉर्म – Hindi Stories

Kahani
Hindi Stories - Zealth.ai Founder Monika and Dheerajइस हफ्ते की शुरुआत में कोरोना मामलों में भारत, ब्राजील को पीछे छोड़ते हुए दूसरा सबसे ज़्यादा कोरोना प्रभावित देश बन गया। भारत में अब प्रति दिन लगभग 90,000 कोरोना मामलों की पुष्टि होने लगी है। कोरोना वायरस महामारी भारत के पहले से ही अपंग स्वास्थ्य प्रणाली पर और बोझ डाल रही है, जो अब रोगियों को उचित उपचार प्रदान करने के लिए संघर्ष कर रही है।Zealth.ai Founder Monika and Dheeraj Hindi Stories, Pic Source - Zealth.aiआज हम आपको मोनिका मेहता और धीरज मुंधरा द्वारा स्थापित Zealth.ai की Hindi Stories बताने वाले हैं। कैसे उन्होंने कोरोना महामारी के बीच मरीज़ों के देखभाल के लिए अपने ज्ञान का उपयोग किया और भारत में उन कोरोना मरीज़ों की मदद कर रहे हैं, जो होम आइसोलेशन में रहते हैं।भारतीय स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र को मजबूत करने के लिए, सिंगापुर और मुं...
जयपुर डिजाइनर ने अपशिष्ट पेपर को बदल कर 100% बायोडिग्रेडेबल, वाटर-रेसिस्टेंट फर्नीचर बनाया – Hindi Stories

जयपुर डिजाइनर ने अपशिष्ट पेपर को बदल कर 100% बायोडिग्रेडेबल, वाटर-रेसिस्टेंट फर्नीचर बनाया – Hindi Stories

Kahani
Hindi Stories - जब से चीनियों ने लकड़ी की लुगदी को कागज की चादरों में बदलने की प्रक्रिया का आविष्कार किया, तब से दुनिया को इस बहुमुखी उत्पाद से प्यार हो गया है। लेकिन यह प्रक्रिया एक महान वरदान और अभिशाप दोनों है।हां, हमें इससे पैकेज लेबल से लेकर ड्राइंग शीट तक सब कुछ मिलता है। लेकिन कागज बनाने के लिए हर साल लाखों पेड़ों को काट दिया जाता है, जिसका इस्तेमाल दस मिनट में किया जा सकता है। पेड़ को बढ़ने में जीवनकाल लगता है। लेकिन इंसान की जरुरत पूरी करने के लिए इन पेड़ों को चंद घंटों में काट दिया जाता है।क्या पेड़ों को बचाने का कोई उपाय है? - Hindi Storiesअभी इसका कोई स्थायी समाधान तो नही है। लेकिन हम इसके प्रभाव को कम करने की पूरी कोशिश कर सकते हैं। रीसाइक्लिंग इसका एक तरीक़ा है, जिससे हम पेड़ों को बचा सकते हैं। लेकिन printed पेपर में इंक भी होती हैं, इन सबको रिसाइकल करने पर हमें डार्क और रफ श...
Hindi Stories – गुरुग्राम की कंपनी ने लॉंच की 20,000 रुपए की इलेक्ट्रिक बाइक, ड्राइविंग लाइसेंस की जरुरत नहीं

Hindi Stories – गुरुग्राम की कंपनी ने लॉंच की 20,000 रुपए की इलेक्ट्रिक बाइक, ड्राइविंग लाइसेंस की जरुरत नहीं

Kahani
Hindi Stories - गुड़गांव की स्वदेशी कंपनी 'Detel' अपनी स्थापना के बाद से, एक उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक ब्रांड और कम लागत वाली प्रौद्योगिकियों को विकसित करने में शामिल रहा है। उदाहरण के लिए Detel, 3999 रुपये में एक LCD TV बेचते हैं।Detel EV bike (Hindi Stories)Detel के संस्थापक योगेश भाटिया कहते हैं - मेरी योजना भारत में हर उपभोक्ता तक पहुंचने की है, मैं भारत के हर उपभोक्ता तक पहुंचने की योजना बना रहा हूँ।दो साल पहले, योगेश ने एक मोटर को जोड़कर साइकिल को इलेक्ट्रिक बाइक में बदलने की योजना बनाई। लेकिन, यह बहुत महंगा साबित हुआ।आप Kahani.Hindualert.in में भारत की प्रेरक कहानियाँ - hindi stories पढ़ रहे हैं।उन्होंने बताया कि - एक बार जब हमने साइकिल पर काम करना बंद कर दिया, तो मेरी 16 सदस्यीय अनुसंधान टीम ने यह समझने के लिए जमीनी अनुसंधान शुरू किया कि उपयोगकर्ता एक इलेक्ट्रिक वाहन ख़ासकर Electric Bi...