Panchtantra Post

कौवा और साँप पंचतंत्र की कहानी हिंदी में ॰ Panchatantra Stories in Hindi – The Crow and The Serpent

Panchatantra Stories in Hindi – The Crow and The Serpent ॰ कौवा और साँप पंचतंत्र की कहानी हिंदी में

घने जंगल के अंदर बीचों-बीच एक बड़ा बरगद का पेड़ था। इसकी शाखाएँ सभी दिशाओं में फैली हुई थी, जो जमीन पर छाया बिखेर रही थी। शाखाएँ पत्तियों से भरी थीं, जो हवा चलने पर सरसराहट की आवाज़ करती थीं।

एक दिन, गुरु कौवा उसकी एक शाखा पर उतरा। गर्मी का दिन था तो गुरु ने बरगद के पेड़ पर ठंडी हवा का आनंद लिया।

उसने चारों ओर देखा, लेकिन इतने बेहतर और हरे-भरे पेड़ पर कोई घोंसला नहीं देखकर आश्चर्यचकित रह गया। उसे गिलहरियों की चीख़, मैनाओं की चीख़ या चिड़ियों की चहचहाहट सुनाई नही दे रही थी। यह उसे अजीब लगा, क्योंकि गुरु ने पेड़ को शांत पाया।

Panchatantra Stories in Hindi - The Crow and The Serpent
Panchatantra Stories in Hindi – The Crow and The Serpent

अगले दिन वह अपनी पत्नी मिया को पेड़ के पास ले आया। दोनों कौओं ने प्यार से पेड़ की मोटी शाखाओं में से एक पर घोंसला बनाया। दोनों को अपने नए घर से प्यार था।

कुछ महीने बाद मिया ने चार अंडे दिए। कुछ समय बाद, अंडों से चार चूजे निकले। गुरु और मिया बेहद खुश थे। भूखे चूजों के लिए कुछ रसदार कीड़े खोजने के लिए वे अगले दिन उड़ गए। लेकिन जब वे शाम को लौटे तो देखा कि बच्चे गायब हैं।

गुरु और मिया निराशा में इधर-उधर भटक रहे थे और चिल्ला रहे थे। वे बरगद के पेड़ के चारों ओर उड़ रहे थे, यह सोचकर कि क्या चूजे घोंसले से गिर गए हैं। लेकिन चूजों का कोई निशान दिखाई नहीं दे रहा था।

जब गुरु चूज़ों को जमीन के पास खोज रहा था, तो उसे पेड़ पर एक छेद दिखाई दिया। उस छेंद के अंदर घना अंधेरा था। अचानक, उस छेंद में उसे आँखों का एक जोड़ा दिखाई दिया। गुरु का हृदय दहशत से भर गया। लेकिन जैसे ही उसने पलक झपकाई, आंखें ग़ायब हो गईं। गुरु ने सोचा कि शायद ये सब उसकी कल्पना मात्र है। उसने मिया से कुछ नहीं कहा।

कुछ महीने बाद मिया ने फिर अंडे दिए। एक बार फिर माता-पिता नवजात चूजों को देखकर प्रसन्न हुए। बच्चे स्वस्थ थे। लेकिन वे बेहद भूखे थे। हालाँकि वे चूजों को अकेला नहीं छोड़ना चाहते थे, हालाँकि गुरु और मिया को भोजन खोजने के लिए घोंसला छोड़ना पड़ा।

शाम को जब वे लौटे तो एक बार फिर उन्हें घोंसला खाली मिला। गुरु को तुरंत पेड़ के छेद की याद आई। वह वहां यह देखने के लिए उड़ गया कि क्या वह उन आंखों को देख सकता है जो उसने पहले देखी थीं। छेद में अंधेरा था। लेकिन इसके मुंह पर गुरु ने एक पंख देखा। यह एक कौवा का पंख था।

वह छेद पर जोर से चिल्लाया। छेद के अंदर आवाज गूंजी। गुरु ने क्रोध में चिल्लाना जारी रखा। अचानक, एक जोर की फुफकार हुई। गुरु डर के मारे वहाँ से हट गया। छेद से एक बड़ा काला नाग निकला। उसने गुरु की ओर डरावनी आँखों से देखा, और वापस अंदर चला गया।

गुरु जल्दी से मिया के पास गया, और उसे वह सब कुछ बताया जो उसने देखा था। मिया डर गई। अब मुझे पता है कि इस पेड़ पर घोंसले क्यों नहीं हैं। यह सांप पक्षियों के बच्चों को खाता है। चलो गुरु जी, मैं बहुत भयभीत हूं मिया ने कहा।

गुरु ने कहा – हम अपना घर मिया नहीं छोड़ सकते।

गुरु, मुझे पता है कि आप इस पेड़ को पसंद करते हैं। लेकिन क्या आपको नहीं लगता कि हम जहां भी जाएं खुश रह सकते हैं? सोचिए हम अपने बच्चों के साथ कितने खुश होंगे? – मिया ने कहा।

हाँ, हम खुश होंगे। लेकिन मुझे अपना घर छोड़ने के लिए मजबूर होना पसंद नहीं है। उन सभी पक्षियों के बारे में सोचें जिन्होंने ऐसा सोचा और इस खूबसूरत पेड़ को छोड़ दिया। मिया चिंता मत करो। मैं एक योजना के बारे में सोच रहा हूँ।

कुछ समय बीत गया और मिया ने एक बार फिर अंडे दिए। वह गुरु से पूछती रही कि उसने क्या करने की योजना बनाई है। वह अपने चूजों के लिए डरती थी।

इस बीच, गुरु को पता नहीं था कि सांप से कैसे निपटा जाए। उसने अपने दोस्त सियार से मदद माँगने का फैसला किया। सियार ने पूरी कहानी सुनी। बिना एक शब्द कहे वह लंबी सैर पर निकल गया। वापस लौटे तो उनके चेहरे पर मुस्कान थी। उसने योजना को गुरु के कानों में फुसफुसाया।

अगले दिन गुरु ने नदी की ओर उड़ान भरी। वह एक बड़ी चट्टान पर बैठ गया और प्रतीक्षा करने लगा। जल्द ही उसने वह चीज़ देखी जिसका वह इंतज़ार कर रहा था। लोगों का एक बड़ा समूह नदी के पास पहुंचा। यह नदी पर पिकनिक मनाने के लिए आने वाली भूमि की रानी थी। रानी घास पर निकल पड़ी। उसके सहायकों ने एक नरम गद्दा बिछाया और रानी बैठ गई। उसने धूप में आराम करने के लिए अपने गहने उतार दिए।

यही वह क्षण था जिसका गुरु को इंतजार था। वह गद्दे पर चढ़ गया, हार उठाया और उड़ गया। रानी के पहरेदार गुरु के पीछे दौड़े, गुरु सुनिश्चित किया कि वह धीरे-धीरे उड़े, जिससे सैनिक उसे देख कर पीछा कर सकें।

जल्द ही, वह बरगद के पेड़ के पास पहुँचा, और हार को साँप जिस छेद के अंदर रहता था उसमें गिरा दिया। सैनिक आगे बढ़े। वे हार को पाने के लिए छेद में खुदाई करने लगे। अचानक, उन्हें एक फुफकार सुनाई दी। यह कोबरा था।

इसने अपना फन फैलाया, जो कोई भी साँप पर हमला करेगा वह उसको काटने के लिए तैयार था। लेकिन सैनिक होशियार थे। उन्होंने सांप को डंडों से पीटा और उसे मार कर फेंक दिया। सैनिक रानी का हार पा गए और उसे रानी को ले जाकर लौटा दिया।

Panchatantra Stories in Hindi - Crow and Serpent
Panchatantra Stories in Hindi – Crow and Serpent

बरगद की शाखाओं के ऊपर गुरु और मिया ने जो कुछ भी हुआ उसे देखा। गुरु ने सैनिकों का धन्यवाद किया। जैसे ही सैनिक चले गए, गुरु और मिया ने अंडे में एक दरार देखी। पहले चूजे ने अपना सिर अंडे के बाहर निकाला। गुरु और मिया मुस्कुराए। एक-एक कर सभी चूजे अंडों से बाहर आ गए। इसके बाद वे सभी एक साथ खुशी-खुशी रहने लगे। धीरे धीरे जंगल के दूसरे पक्षी भी उस पेड़ में आना शुरू कर दिया और अपने घोंसले बना कर वही ख़ुशी से रहने लगे।

Web Title : Panchatantra Stories in Hindi – The Crow and The Serpent ॰ कौवा और साँप पंचतंत्र की कहानी हिंदी में

Leave a Reply

You cannot copy content of this page
error: Content is protected !!