चिंतित पति की हिंदी कहानी – Moral Stories in Hindi

0
22
Chintit Pati - Moral Stories in Hindi
Chintit Pati - Moral Stories in Hindi

Moral Stories in Hindi / Hindi Kahani – किसी शहर में एक खुशहाल दंपति रहता था, जो कई दशकों से साथ था। शहर में रहते हुए दोनों को कई साल बीत गए। कुछ समय बाद पति को चिंता होने लगी की उसकी पत्नी अब उसकी बातों को नही सुनती, जैसा कि वह पहले सुनती थी।

उसने सोचा की उसकी पत्नी को शायद सुनने में अब परेशानी होने लगी हो, इस बात को सोच कर वह और चिंता में डूब गया। फिर उसके मन में आया की शायद उसकी पत्नी को अब डॉक्टर को दिखाना चाहिए, शायद कुछ इलाज हो जाए।

Moral Stories in Hindi

लेकिन उसे अभी यह पता नही था, की वह अपनी पत्नी को कैसे और किस डॉक्टर के पास ले जाए। उसने अपनी पारिवारिक डॉक्टर को परामर्श के लिए बुलाया।

डॉक्टर आकर उसकी बात सुनता है और उसे एक सरल उपाय बताता है की अगर आप ये देखना चाहते है की आपकी पत्नी को सही से सुनाई देता है की नही तो इसके लिए आपको एक टेस्ट करना चाहिए।

डॉक्टर ने कहा – आप अपनी पत्नी से 40 फीट की दूरी पर खड़े हो जाओ और जितना ज़ोर से बोल सकते हो बोलो और देखो की वह सुन कर कोई प्रतिक्रिया देती है की नही।

Chintit Pati - Moral Stories in Hindi
Chintit Pati – Moral Stories in Hindi

अगर आपकी पत्नी, आपकी बात सुनती है और कोई प्रतिक्रिया देती है तो सब ठीक-ठाक है नही तो इस टेस्ट को आपको कई बार करना पड़ेगा। हर बार आपको अपनी अपने पत्नी से दूरी कम करके कुछ बोलना है और देखना है की वो सुनती है की।

इस कहानी को भी पढ़ें :   Moral Stories in Hindi : मेरियोस के राजा को भगवान ने सिखाया सबक, लालच बहुत बुरी आदत है - मेरियोस का लालची राजा जोर्डिस

Moral Stories in Hindi

यदि वह 40 फीट की दूरी से नहीं सुन पाती, तो दूरी को 30 फीट, फिर 20 फीट, और इसी तरह जब तक आपको प्रतिक्रिया नहीं मिल जाती दूरी कम करते जाना है। इससे इलाज करने और कोई सुनवाई यन्त्र देने में आसानी होगी।

अगले दिन, पति ने अपनी पत्नी को रसोई में खाना बनाते हुए देखा। उसने सोचा की यह मौक़ा डॉक्टर के आइडिया की जांच करने का है। वह अपनी पत्नी से 40 फीट दूर गया और ज़ोर से पूछा – Darling, आज रात के खाने के लिए क्या बनाना है? इसके बाद उसने अपनी पत्नी की प्रतिक्रिया का इंतजार किया लेकिन उसे लगा कि उसकी पत्नी ने कुछ नही कहा।

इसके बाद वह थोड़ा और करीब आया और पूछा – Darling, रात के खाने के लिए क्या बनाओगी? उसे अभी भी यही लग रहा था की उसकी पत्नी ने कोई जवाब नही दिया।

फिर वह अपनी पत्नी से बीस फीट दूर खड़ा हुआ और उसने वही सवाल किया, इस उम्मीद में कि शायद उसे इस बार जवाब मिलेगा। लेकिन उसे इस बार भी ऐसा ही लगा की उसकी पत्नी ने कोई जवाब नहीं दिया।

Moral Stories in Hindi

फिर वह अपनी पत्नी से सिर्फ दस फीट की दूरी पर खड़ा हुआ और फिर वही सवाल पूछा लेकिन उसे फिर भी कोई जवाब सुनाई नहीं दिया।

अब पति बहुत चिंतित हो गया और उसे इस बात की चिंता होने लगी की अब उसकी पत्नी सुन नही पाती है। फिर वह अपनी पत्नी के ठीक पीछे खड़ा हो गया और फिर वही सवाल किया।

इस कहानी को भी पढ़ें :   भारतीय सेना के कमांडो अशोक ने जब अकेले ही पाक सेना को भागने के लिए किया था मजबूर - Motivational Story in Hindi

इस बार उसकी पत्नी ने उस पर चिल्लाते हुए कहा – जॉनी, मैं पांचवीं बार बता रही हूँ कि आज हम रात का खाना बाहर खाएँगे।

अब पति को समझ में आ गया था कि सुनने की समस्या उसकी पत्नी में नही बल्कि उसकी ख़ुद की थी।

Moral of The Story in Hindi : इस hindi kahani में हमें सीखने को मिला की अक्सर हम यही सोचते रहते हैं की समस्या दूसरों के साथ है। लेकिन असल में समस्या हमारे साथ ही होती है। इसलिए हमें दूसरों को दोष देने की बजाए पहले ख़ुद के अंदर झाँक कर देख लेना चाहिए कि समस्या कहीं हमारे साथ तो नही है।

दोस्तों यह हिंदी कहानी (Hindi Story) आपको कैसी लगी कमेंट करके हमें जरूर बताएँ। अगर आपको HinduAlert की यह Moral Stories in Hindi पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया जैसे की फेसबुक, ट्विटर, WhatsApp में शेयर करना ना भूलें।